अग्निपथ योजना को नौकरी न समझकर अगर स्नातक करना समझा जाए तो ज्यादा उचित होगा।

🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

अग्निपथ क्या हे और ये क्यों अच्छा हे लोगो के लिये कैसे आईये समझते है।एक लडका इंटरमीडिएट के बाद कोई 3-4 साल का डिग्री कोर्स करता है तो उसे इसके बाद भी नौकरी की तलाश करनी पडती है।अब यही लडका अग्निवीर बनकर चार साल देश को देता है तो उसे इस दौरान स्नातक की डिग्री के साथ साथ स्टाइपेण्ड समझिये या सैलरी मिलती है।


पहला साल- 21,000×12= 2,52,000
दूसरा साल- 23,100×12= 2,77,200
तीसरा साल- 25,580×12= 3,06,960
चौथा साल- 28,000×12= 3,36,000


कुल मिला कर 11 लाख 72 हज़ार 160 रुपए, चार सालों में मिलेंगे उसके बाद, रिटायरमेंट पर 11 लाख 71 हज़ार।इसके अलावा इस दौरान सेना का रहना,खाना,इलाज अन्य सुविधाए भी मुफ्त मिलेंगी।4 साल बाद इसमे से 25% युवा तो सेना में ही नियमित हो जायेगा शेष 75% युवा जिनकी आयु 21 से 25 वर्ष ही होगी उन्हे अन्य सरकारी नौकरियो ,PSUs, कार्पोरेशन आदि में वरियता भी मिलेगी। ऐसा समझिए की सरकारी पैसों से 4 साल आपको आर्मी की ट्रेनिंग और डिग्री मिल रही है, साथ मे इतने सारे पैसे भी और जॉब की 50% गारण्टी भी। इंडियन आर्मी की ट्रेनिंग के साथ गल्फ़ तो है ही, आर्मी का अनुशासन आपके बहुत काम आएगा। लाइफ जैसी अभी चल रही है, उससे बेहतर तो होना निश्चित ही है। इसलिए आप अग्निपथ योजना के विरोध का हिस्सा मत बनिए। देश में 50% लोग ऐसे हैं जो पूरी उम्र में भी इतना पैसा नहीं कमाते है जो 4 साल में अग्निपथ से आयेंगे l
जिनको योजना पसंद नही है उनको जबरन भर्ती तो नही किया जाएगाl वह शौक से बेरोजगार घूम सकते है ।
बेरोजगारी भत्ते से तो अच्छा ही है ।
जो देश 🇮🇳 सेवा करना चाहते है वह जायेंगे ही ।
जय हिंद।

Leave a Reply

Your email address will not be published.